• वित्तीय समस्या से निपटने के लिए स्माइल फाउंडेशन की पहल

( February 19, 2019 )

दिल्ली। स्माइल फाउंडेशन ने गैर सरकारी संगठनों (एनजीओ) को कामकाज और संचालन में आने वाली वित्तीय दिक्कतों को दूर करने और उन्हें आत्मनिर्भर बनने में मदद की पहल की है।

स्माइल फाउंडेशन के सह-संस्थापक और न्यासी , सांतनु मिश्रा ने एनजीओ की वित्तीय मुश्किलों पर कहा, “बड़ी संख्या में सामुदायिक स्तर पर काम करने वाले गैर सरकारी संगठनों को धन की कमी का सामना करना पड़ रहा है।”

उन्होंने कहा, “ ‘सिविक ड्रिवेन चेंज’ की दिशा में काम करने की अपनी प्रतिबद्धता के साथ, स्माइल फाउंडेशन ने वाइल्ड गैंजन चेंज द गेम एकेडमी के साथ टीम बना करके सर्वोत्तम प्रथाओं को लाने और जमीनी स्तर के संगठनों को अपने विकास जनादेश को आगे बढ़ाने में मदद किया है। ”

अपने तरह के अकेले कक्षा शिक्षण पाठ्यक्रम के माध्यम से, तेईस गैर-सरकारी संगठन विशेषज्ञों से सुनने के लिए जुटें, कि धन जुटाने संबंधी मुद्दों से कैसे निपटा जाए और अचानक बंद होने से बचने के लिए हितधारकों के कर्मठता की प्रक्रियाओं का पालन कैसे किया जाए। मिश्रा ने कहा, “कभी-कभी उन्हें पता नहीं होता है कि संसाधनों को कैसे बढ़ाया जाए और कई बार जब उनके पास धन होता है, तो वे अनुपालन प्रक्रियाओं को नहीं जानते हैं।

विदेशी निधि के सिकुड़ने से निधि को घरेलू स्तर पर उगाहने की आवश्यकता को महसूस किया गया है और इसने गैर-सरकारी संगठनों को मुश्किल स्थिति में डाल दिया गया है।” पिछले दशक या अधिक के मुकाबले में यह आज के संदर्भ में विशेष रूप से महत्वपूर्ण है, क्योंकि राष्ट्रीय गैर सरकारी संगठनों के लिए विदेशी धन पर निर्भरता अनियमित है। एक ताजा रिपोर्ट के अनुसार, पिछले पाँच वर्षों में गैर-सरकारी संगठनों के लिए विदेशी निधियों में 40 प्रतिशत की गिरावट आयी है।

यह वैश्विक आर्थिक मंदी और कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी के उभरने और व्यक्तिगत रूप से देने के साथ जुड़ा हुआ है, और स्थानीय संगठन अपनी विशेषज्ञता के क्षेत्र संसाधनों को बढ़ाने और समर्थन के लिए नए तरीकों की तलाश राष्ट्रीय बाजारों के भीतर कर रहे हैं। सीटीजीए की प्रभारी गार्गी कपूर ने कहा,“इन छोटे गैर सरकारी संगठनों के लिए खुद को संवहनीय बनाए रखना एक बड़ा सवाल है। स्थानीय रूप से धन उगाहने के पहलू पर ध्यान केंद्रित करते हुए अपने कक्षा पाठ्यक्रम दृष्टिकोण के माध्यम से सीटीजीए इन मुद्दों को संबोधित करता है।

यह पाठ्यक्रम प्रतिभागियों के दृष्टिकोण में महत्वपूर्ण बदलाव लाता है कि लंबे समय में स्थानीय धन जुटाना अधिक टिकाऊ विकल्प है।” उन्होंने स्पष्ट किया,“ये कार्यशालाएँ नागरिक समाज को अपने व्यावसायिक मॉडल पर पुनर्विचार करने में मदद करती हैं, रणनीतिक रूप से इसके वित्तीय मॉडल के बारे में सोचने का अवसर देती हैं और नये परिवर्तनात्मक दृष्टिकोण अपनाती हैं, जो इस क्षेत्र को अपनी स्वतंत्रता बनाए रखने में मदद करेंगी और तब ये भी संवहनीय बने रहेंगे।

कार्यशालाओं के माध्यम से होने वाले विचार विनिमय इन छोटी इकाइयों को दीर्घकालिक और अल्पकालिक धन जुटाने वाले लक्ष्यों के लिए सशक्त बनाते हैं।” यूएनजीसी नेटवर्क इंडिया की अध्यक्ष सु शबनम सिद्दीकी ने इस कार्यक्रम का उद्घाटन किया और सीएसआर अधिनियम और भारत में हाल ही में हुए संशोधन पर सत्र को संबोधित किया। उन्होंने कहा, “पहले से कहीं अधिक आज की आवश्यकता अनुपालन और नियामक मानदंडों के साथ काम करना है।

Source : https://www.nayaindia.com/latest-post/initiative-of-smile-foundation-to-tackle-financial-problem-48145.html